DA Image
डैडी

डैडी

3.1 13973 रेटिंग्स

डायरेक्टर : अशिम आहलुवालिया

रिलीज़ डेट :

  • मूवी जॉकी रेटिंग्स 2.4/5
  • रेट करें
  • रिव्यू लिखें

प्लाट

'डैडी' मुंबई के मशहूर गैंगस्टर से पॉलिटिशियन बने अरुण गावली के जीवन पर बनी एक क्राइम ड्रामा फिल्म है! इस फिल्म में अर्जुन रामपाल मुख्य भूमिका में है! फिल्म में अरुण गावली के जीवन की कहानी और उनसे जुड़े विवादों को दिखाया गया है! इस फिल्म के साथ अर्जुन ने प्रोडूसर का काम भी किया है और इस फिल्म को को-प्रोड्यूस करने के साथ-साथ लिखा भी है!और देखें

निर्णय

“अर्जुन रामपाल की अच्छी एक्टिंग और स्टाइल इस फिल्म को ख़ास बनाते हैं !”

डैडी क्रेडिट और कास्ट

अर्जुन रामपाल

क्रेडिट

कास्ट (क्रेडिट ऑर्डर में)

डैडी जनता के रिव्यू

डैडी रिव्यू : अगर आपको क्राइम ड्रामा पसंद है तो ‘डैडी’ आपके लिए ही बनी है !

|
रेटेड 3.0 / 5
|
द्वारा Pallavi Jaiswal (190368 डीएम पॉइंट्स) | ऑल यूज़र रिवीव्स

रिव्यू लिखें

रिव्यू डैडी & डीएम पॉइंट्स*

मुंबई के दगड़ी चौल में पड़े बड़े पॉलिटिशियन और पूर्व गैंगस्टर अरुण गावली पर बनी बायोपिक 'डैडी' सिनेमाघरों में दस्तक दे चुकी है. इस फिल्म में एक्टर अर्जुन रामपाल मुख्य भूमिका में हैं और उनके साथ एक्टर निशिकांत कामत, आनंद इंगले और राजेश श्रृंगारपुरे भी हैं. इसके अलावा साउथ की एक्ट्रेस ऐश्वर्या राजेश इस फिल्म में अर्जुन की हीरोइन बनी हैं.

ये कहानी है 1970 के दशक ने एक मुंबई के कपड़े के मिल में काम करने वाले व्यक्ति के बेटे की जो जबरन वसूली, जुए और मर्डर जैसी चीज़ों में पड़कर अंडरवर्ल्ड का जाना-माना चेहरा बना. ये फिल्म मुंबई के मशहूर गैंग्स के समय और जीवन के बारे है. अरुण (अर्जुन) ने अपने दो दोस्तों बाबू (आनंद) और रामा (राजेश) के साथ मिलकर अपना गैंग बनाया था और 70 और 80 के दशक में उसका मुंबई में काफी खौफ़ हुआ करता था. गावली के अंडरवर्ल्ड में नाम कमाने का मतलब था कि उसे अपने प्रतिद्वंदी दाऊद इब्राहीम का सामना करना पड़ेगा. फिल्म में दाऊद को मक़सूद के नाम से संबोधित किया गया है.

अरुण गावली के किरदार में अर्जुन रामपाल ने कमाल किया है. गावली की चाल-ढाल से लेकर, उनके बैठने और बात करने के स्टाइल को अर्जुन ने अपनाया और खूबसूरती से निभाया है. इसके अलावा एक्ट्रेस ऐश्वर्या ने भी कमाल की एक्टिंग की है. अर्जुन के दोस्त के किरदार में राजेश और आनंद भी अपने किरदार में बेमिसाल है. इसके अलावा आपको फिल्म में एक कमाल के एक्टर का अच्छा कैमियो भी देखने को मिलेगा.

ये एक बेहद साधारण फिल्म है, जिसमें निर्माता-निर्देशक गहरायी में नहीं गए है. जहां फिल्म में कई दिल-दहला देने वाले सीन्स हैं वहीं इसकी साधारणता से आपको ज़्यादा कुछ महसूस नहीं होता है. कुछ ऐसे पल है जहां आप दुख महसूस करते हैं लेकिन उनके आगे ऐसा कुछ नहीं है जो आपको फिल्म से ज़्यादा जुड़ने का मौका दे. मुंबई के चौल को काफी अच्छे से दिखाया गया है, जहां हर कदम पर कोई ना कोई गैंग छुपा बैठा है और एक लालची पुलिस वाला जो अरुण गावली को किसी भी कीमत पर मारना चाहता है हर वक़्त लोगों का पीछा करता है.

फिल्म के पहले भाग में आपको अरुण के साधारण लड़के से गैंगस्टर और अपने गैंग के मुखिया बनने की कहानी जानने को मिलेगी तो वहीं दूसरे भाग में आप उसे पारिवारिक आदमी और राजनेता बनते देखेंगे. एक मुस्लिम लड़की जुबैदा से शादी कर उसको आशा में बदल चुका अरुण हर कौम को समान मानता है और मुंबई में हो रहे दंगों के समय लोगों को बचाता है. ये बात सबसे ज्यादा प्रेषण करने वाली है कि फिल्म में एक्टर्स अपने मुंह ही मुंह में डायलॉग बोल रहे हैं और आपको उनके बात सुनने और समझने में थोड़ी दिक्कत होती है.

अधिकतम फिल्म को नायक अर्जुन के माध्यम से दिखाया गया है. इसके साथ ही गावली जैसे दिखने और उनके जैसा व्यवहार करने में अर्जुन ने काफी मेहनत की है, जो कि उनकी परफॉरमेंस में नज़र आ रही है. अर्जुन का काम इस फिल्म में कमाल है. रेट्रो लुक में वे और बाकि सभी काफी अच्छे लग रहे हैं और एक्टिंग भी अच्छी की है.

फिल्म का म्यूजिक रेट्रो स्टाइल से शुरू होता है और इमोशनल पर ख़त्म हो जाता है, जो कि ठीक-ठाक है. अगर आपको क्राइम ड्रामा देखने का शौक़ है तो आपको ये फिल्म एक बारदेख लेनी चाहिए. गावली भारत की क्राइम हिस्ट्री के मुख्य व्यक्ति है और इस फिल्म में आपको उनके बारे में काफी कुछ जानने को मिलेगा.

Poster - DaddyPoster - DaddyCover