DA Image
शुभ मंगल सावधान

शुभ मंगल सावधान

3.0 5843 रेटिंग्स

डायरेक्टर : आर एस प्रसन्ना

रिलीज़ डेट :

  • मूवी जॉकी रेटिंग्स 3.5/5
  • रेट करें
  • रिव्यू लिखें

प्लाट

फिल्म विक्की डोनर में स्पर्म को दान कर चुके अभिनेता आयुष्मान खुराना इस बार एक कदम और आगे बढ़कर स्तंभन दोष (erectile dysfunction) के बारे में एक फिल्म कर रहे हैं। 2015 के फिल्म 'दम लगा के हईशा' में अपने सफल सहयोग के बाद आयुष्मान और भूमि पेडनेकर एक बार फिर साथ आ रहा हैं! फिल्म 'शुभ मंगल सावधान' तमिल कॉमेडी कल्याण सामयाल सदाम की रीमेक है। आ...और देखें

निर्णय

“ फिल्म पूरी मसाला फिल्म है जिसका विषय बहुत अलग होने के साथ साथ काफी अच्छा भी है जो बांध के रखता है। ”

शुभ मंगल सावधान क्रेडिट और कास्ट

Ayushmann Khurrana

क्रेडिट

कास्ट (क्रेडिट ऑर्डर में)

शुभ मंगल सावधान जनता के रिव्यू

अगर फुलऑन एंटरटेनमेंट चाहिए तो देख आइये फिल्म ‘शुभ मंगल सावधान’ !

|
रेटेड 3.5 / 5
|
द्वारा Pallavi Jaiswal (190068 डीएम पॉइंट्स) | ऑल यूज़र रिवीव्स

रिव्यू लिखें

रिव्यू शुभ मंगल सावधान & डीएम पॉइंट्स*

फिल्म 'विक्की डोनर' में स्पर्मस डोनेट करने के बाद आयुष्मान खुराना को 'शुभ मंगल सावधान' में इरेक्टाइल डिसफंक्शन होना तो लाज़मी था. कुछ फ़िल्में सिर्फ और इ=सिर्फ दर्शकों के एंटरटेनमेंट के लिए बनी होती है, जिनमें एक अच्छी कहानी के साथ कुछ बेहतरीन कलाकार होते हैं और आपका दिन बना देते हैं. 'शुभ मंगल सावधान' उन्हीं फिल्मों में से एक है.

ये कहानी है मुदित शर्मा (आयुष्मान खुराना) और सुगंधा (भूमि पेडनेकर) की जो एक दूसरे को चाहते हैं और शादी करने वाले हैं. लेकिन मुदित को एक 'गेंट्स प्रॉब्लम' है यानी इरेक्टाइल डिसफंक्शन की शिकायत है, जिसकी वजह से इन दोनों की शादी में काफी अडचने आ रही हैं. जहाँ मुदित सुगंधा के लिए कुछ भी करने को तैयार है वहीं सुगंधा भी मुदित की मुश्किल का हल ढूँढने में लगी हुई है. लेकिन क्या इनकी मुश्किल हल हो पायेगी और इनके खिलाफ खड़े इनके परिवार इन दोनों की शादी होने देंगे ये देखने वाली बात है.

'दम लगा हईशा' में साथ काम करने के बाद आयुष्मान खुराना और भूमि पेडनेकर की जोड़ी एक बार फिर इस फिल्म के ज़रिये साथ आई है और इन दोनों ने एक बार फिर कमाल कर दिखाया है. इन दोनों की परफॉरमेंस अच्छी है और इनके साथ बाकि कलाकारों का काम भी बेहतरीन है. फिल्म में जहाँ कॉमेडी की भरमार है तो वहीं आपको मुदित और सुगंधा की परेशानी में दुःख भी होता है. ये एक हल्की-फुल्की और अच्छी फिल्म है.

डायरेक्शन की बात करें तो डायरेक्टर आर एस प्रसन्ना ने काफी अच्छा काम किया है. फिल्म का पहला हिस्सा बहुत मज़ेदार है लेकिन दूसरा हिस्सा थोड़ा और बेहतर होता तो अच्छा था. इसके अलावा फिल्म के सभी गाने अच्छे हैं. इसे ज़्यादातर दिल्ली के इलाकों में फिल्माया गया है और मुदित और सुगंधा का मिडिल क्लास रूप आपको खुश कर देता है! अगर एक लाइन में कहा जाए तो ये फिल्म एंटरटेनमेंट से भरी हुई है और शायद ही कोई मौका होगा जहाँ आप खुदको हँसने या फिल्म को एन्जॉय करने से रोक पाएंगे. तो अगर अच्छा समय बिताना है तो ज़रूर देखिये ये फिल्म और अगर नहीं देखी तो पछतायेंगे आप.

coverPoster - Shubh Mangal SaavdhanPoster - Shubh Mangal SaavdhanPoster - Shubh Mangal SaavdhanPoster - Shubha Mangal SaavdhanPoster - Shubha Mangal SaavdhanPoster - Shubha Mangal SaavdhanPoster - Shubha Mangal SaavdhanPoster - Shubha Mangal SaavdhanPoster - Shubha Mangal Saavdhan