DA Image

ऑल यूज़र रिवीव्स ऑफ़ धड़क

  • एक बढ़िया कहानी के बावजूद आपके दिल तक नहीं पहुँचती फिल्म ईशान-जाह्नवी की धड़क !

    Pallavi Jaiswal (190368 डीएम पॉइंट्स)

    रेटेड  
    2.5
    देसीमार्टीनी | अपडेट - July 20, 2018 15:26 PM IST
    3.2डीएम (41420 रेटिंग्स )

    निर्णय - निर्णय: करण जौहर के फ्लेवर के साथ 'सैराट' के इस रीमेक में आपको ख़ास मज़ा नहीं आएगा !

    धड़करिलीज़ डेट : July 20, 2018



    कुछ लोग सही कहते हैं क्लासिक फिल्मों के रीमेक ना बने तो ही अच्छा है। लेकिन ऐसा होना काफी मुश्किल है। धड़क की बात करें तो फिल्म 'सैराट' के इस हिंदी रीमेक की कहानी ओरिजिनल फिल्म की ही है लेकिन करण जौहर और डायरेक्टर शशांक खेतान ने इसे अपना फ्लेवर देने की कोशिश की है। फिल्म की कहानी साफ़ है दो टीनएज बच्चे एक-दूसरे के प्यार में पड़ते हैं और फिर घर छोड़कर भाग जाते हैं। इस बात का अंजाम क्या होगा ये देखने वाली बात है।

    इस फिल्म को एक अलग ही मोड़ देने की कोशिश की गयी है। लेकिन इस फिल्म में वो बात नहीं है, जो सैराट में थी। एक तरह से ये कहना ठीक होगा कि 'धड़क' की तुलना फिल्म 'सैराट' से नहीं की जा सकती। ये फिल्म अपने आप में अलग है। फिल्म का पहला हिस्सा एक टिपिकल बॉलीवुड फिल्म जैसा है, जबकि दूसरा हिस्सा इससे काफी बेहतर है। यंग लव को दिखाने की कोशिश काफी अच्छी है और वो आपको थोड़ा बहुत दिखता भी है लेकिन इतना असर नहीं करता। 'धड़क' में रॉ इमोशन्स की कमी है, शायद इसीलिए ये फिल्म आपको अपने साथ जोड़ने में नाकाम रहती है।

    फिल्म में एक्टर्स की परफॉरमेंस की बात की जाए तो ये जाह्नवी की डेब्यू फिल्म है और उन्होंने शायद अपने रोल के लिए मेहनत की है, लेकिन दिखाई नहीं देती। इसके अलावा क्यूंकि 'सैराट' एक ब्लॉकबस्टर फिल्म रह चुकी है तो लोगों को जाह्नवी से बड़ी उम्मीदें थीं, जिनपर वो खरी नहीं उतर पायीं। ईशान खट्टर अपनी डेब्यू फिल्म 'बियॉन्ड द क्लाउड्स' से साबित कर चुके हैं कि वो एक बढ़िया एक्टर हैं। लेकिन 'धड़क' में वो भी कहीं कहीं फीके पड़ते दिखाई दिए। हालाँकि उनका काम काफी अच्छा है और वो अपने साथ आपको जोड़ने में काफी हद तक सफल हुए हैं। जाह्नवी कपूर और ईशान खट्टर की केमिस्ट्री अच्छी है और उनकी जोड़ी काफी रेफ्रेशिंग है। फिल्म की सपोर्टिंग कास्ट में आशुतोष राणा, आदित्य कुमार, अंकित बिष्ट, श्रीधर वत्सर, ऐश्वर्या नारकर, खराज मुखर्जी और विश्वनाथ चैटर्जी जैसे एक्टर्स हैं। ईशान के दोस्तों के रोल में अंकित और श्रीधर ने बढ़िया काम किया है वहीं खराज, विश्वनाथ और आदित्य के काम भी अच्छा है। हालाँकि आशुतोष राणा ज़रूर करेंगे। आशुतोष को हम सभी ने बढ़िया परफॉरमेंस देते देखा है। ऐसे में धड़क में उनका काम कुछ ख़ास नहीं था।

    डायरेक्टर शशांक खेतान ने शायद इस फिल्म के बारे में ढंग से सोचा नहीं था या फिर उन्होंने सैराट देखी नहीं थी। ये सही है कि उन्होंने फिल्म को अपना फ्लेवर देने की कोशिश की लेकिन वो इस फिल्म को ख़ास मज़ेदार या फिर पावरफुल नहीं बना पाए। फिल्म में है तो बहुत कुछ लेकिन वो आपको अपने साथ जोड़ती नहीं है। ईशान और जाह्नवी के इमोशन्स आपके दिल तक नहीं पहुँचते और आपको उन दया नहीं आती। हालाँकि फिल्म का अंत काफी अच्छा दिखाया है लेकिन अगर उसे इतना खींचते ना तो शायद उसका असर थोड़ा ज्यादा होता।

    फिल्म की सिनेमेटोग्राफी अच्छी है। आपको हॉल में बैठे-बैठे उदयपुर, कोलकाता और मुंबई देखने को मिलेंगे। फिल्म का म्यूजिक काफी स्लो है, लेकिन फिल्म के साथ फिट बैठता है। हालाँकि ये फिल्म और बेहतर हो सकती थी।

    • Storyline
    • Direction
    • Acting
    • Cinematography
    • Music

और ऑडियंस रिव्यूज़

  • Pallavi Jaiswal

    Pallavi Jaiswal

    45 रिव्यू , 5 फ़ॉलोअर्स
    रेटेड 2.5जुलाई 20, 2018

    एक बढ़िया कहानी के बावजूद आपके दिल तक नहीं पहुँचती फिल्म ईशान-जाह्नवी की धड़क !

    कुछ लोग सही कहते हैं क्लासिक फिल्मों के रीमेक ना बने तो ही अच्छा है। लेकिन ऐसा होना काफी मुश्किल है। धड़क की बात करें तो फिल्म 'सैराट' के इस हिंदी रीमेक ...और पढ़ें