DA Image

ऑल यूज़र रिवीव्स ऑफ़ मॉम (Mom)

  • 'मॉम' एक बेहतरीन ड्रामा थ्रिलर, जिसे मिस करना आपकी सबसे बड़ी गलती होगी !

    Pallavi Jaiswal (189318 डीएम पॉइंट्स)

    रेटेड  
    4.0
    देसीमार्टीनी | अपडेट - July 07, 2017 00:25 AM IST
    3.0डीएम (4943 रेटिंग्स )

    निर्णय - निर्णय : बेहतरीन परफॉरमेंस और दमदार स्टोरीलाइन के साथ ये फिल्म आपको एक पल के लिए भी निराश नहीं करती !

    मॉम (Mom)ट्रेलर देखें रिलीज़ डेट : July 07, 2017



    हमारे देश में हर रोज़ ना जाने कितनी मासूम लड़कियाँ किसी दरिंदा के हाथों अपनी इज्ज़त खोती हैं । ना जाने कितने ही ऐसे लोग हैं जो अपनी हवास या किसी और कारण के चलते एक लड़की का बलात्कार करते हैं। इस देश में बलात्कार करना बहुत आसन है, लेकिन मुजरिम को इस अघोर पाप के लिए सज़ा दिलाना बेहद मुश्किल। इस बात का एक नहीं बल्कि कई उदाहरण दे सकती हूँ मैं । मैं ही क्या कोई भी इस बात के अनेकों उदाहरण आपके सामने रख सकता है।

    अपनी हर मुश्किल को सुलझाना हर किसी के बस की बात नहीं होती और इसीलिए दुनिया में कानून बना है। लेकिन कानून ने इंसान के हाथों को एक नहीं बल्कि कई तरीकों से बाँध रखा है। ये कानून सब कुछ जानते हुए भी जब चुप रह जाता है तब व्यक्ति को अपने हाथों में बात लेनी ही पड़ती है। असल जिंदगी में ऐसा भले ही ना होता हो लेकिन हमारी फिल्मों में ये ज़रूर होता है। महत्वपूर्ण ये नहीं है कि दिखाई जाने वाली बात कैसी थी बल्कि ये है कि उसे किस ढंग से और कितने बेहतरीन तरीके से दुनिया के सामने रखा गया !

    श्रीदेवी, नवाज़ुद्दीन सिद्दीक़ी, सजल अली, अक्षय खन्ना और अदनान सिद्दीक़ी स्टारर फिल्म 'मॉम' की कहानी इसही विषय पर आधारित है। अगर गलत और बहुत गलत में चुनना हो तो आप क्या चुनेंगे? इस सवाल का जवाब शायद ही कोई दे पाए। एक 18 साल की स्कूल में पढ़ने वाली बच्ची आर्या (सजल अली ) का कुछ लोग बलात्कार करते हैं और कानून के सामने खुद को साबित ना कर सकने वाली उसकी माँ देवकी (श्रीदेवी) उसके साथ हुए दुष्कर्म का बदला लेती है। अपनी बच्ची को इंसाफ के लिए किसी भी हद तक जाने के लिए तैयार देवकी को गलत और बहुत गलत में से एक का चुनाव करना होगा।

    बॉलीवुड में बलात्कार के विषय पर यूँ तो कई फ़िल्में बनी हैं। उनमें से कुछ कमाल थीं और कुछ का कोई असर नहीं हुआ। लेकिन मेरे मुताबिक काफी समय बाद कोई ऐसी फिल्म बनी है, जिसमें एक भी कमी निकलना लगभग नामुमकिन है। अगर इस फिल्म को साल की बेस्ट फिल्म कहा जाए तो गलत नहीं होगा। फिल्म में सबकुछ है - बेहतरीन और अव्वल दर्जे के एक्टर्स, सस्पेंस, ड्रामा, बदला, चौंकाने वाले पल, मज़ाक, दर्द, ख़ुशी, सबकुछ।

    श्रीदेवी ने एक बार फिर साबित कर दिया कि वे एक कमाल की एक्ट्रेस हैं। शायद आप नहीं जानते होंगे लेकिन ये श्रीदेवी की 300वीं फिल्म है और इसी के साथ उन्होंने अपने फ़िल्मी करियर के 50 साल पूरे कर लिए हैं। अपने करियर को इससे बड़ा सलाम वो शायद ही दे सकती थीं। फिल्म का डायरेक्शन कमाल है और उसकी स्टोरीलाइन काफी मज़बूत है। इस कहानी को और मज़बूत बनाते हैं फिल्म के एक्टर्स।

    श्रीदेवी, अक्षय खन्ना, सजल अली, नवाज़ुद्दीन सिद्दीक़ी और अदनान सिद्दीक़ी ने फिल्म में बेमिसाल एक्टिंग की है। इस सभी की परफॉरमेंस में कोई भी कमी निकालना नामुमकिन है। श्रीदेवी की अभी तक की बेस्ट परफॉरमेंस में से एक उन्होंने इस फिल्म में दी है। उनका दर्द, उनका डर, उनकी नफरत, उनका प्यार और उनके आँसू आपको गहराई तक छूते हैं और एक भी बार ऐसा नही लगता कि वे एक्टिंग कर रही हैं। इसी तरह सजल अली भी अपने किरदार को बखूबी और बेहद खूबसूरती से निभा रही हैं और एक भी बार उन्होंने हमें निराश नहीं किया। अक्षय खन्ना को आप बहुत कम ही फिल्मों में देखते होंगे और इस बार तो उनके क्या कहने। उन्होंने कमाल काम किया है। अदनान ने अपना किरदार बखूबी निभाया और वे एक बेहद अच्छे पिता थे। इस दुनिया में बहुत कम ही नवाज़ुद्दीन सिद्दीक़ी जैसे एक्टर्स पैदा होते हैं। नवाज़ एकदम पानी की तरह हैं, उन्हें जिस साँचे में ढालों ढल जाते हैं और आपका दिल खुश कर देते हैं। इस फिल्म में वे बेहद कमाल के जासूस और काफी मज़ाकिया इंसान बने हैं और उनकी एक्टिंग की दाद दिए बिना मैं रह नहीं सकती। बेमिसाल कलाकार हैं नवाज़।

    फिल्म का म्यूजिक ए आर रहमान ने दिया है, जो की बहुत खूबसूरत है। इसके अलावा फिल्म की सिनेमेटोग्राफी भी काफी अच्छी है। इस फिल्म को देखते समय एक भी बार आप बोर नहीं होते, आपके दिमाग में बस ये चल रहा होता है कि आखिर आगे क्या होगा। ये फिल्म शुरू से लेकर अंत तक आपको अपनी सीट से चिपकाकर रखती है और आप इसमें डूबने से खुदको नहीं रोक सकते। अगर आपने ये फिल्म नहीं देखी तो यकीन मानिये जनाब आप बहुत बड़ी गलती करेंगे और साल का बेस्ट थ्रिलर ड्रामा मिस करेंगे सो अलग।

    इंतज़ार बिल्कुल मत कीजिये आज ही देख आइये। आपका दिल ज़रूर खुश हो जायेगा !

और ऑडियंस रिव्यूज़

  • Pallavi Jaiswal

    Pallavi Jaiswal

    45 रिव्यू , 5 फ़ॉलोअर्स
    रेटेड 4.0जुलाई 07, 2017

    'मॉम' एक बेहतरीन ड्रामा थ्रिलर, जिसे मिस करना आपकी सबसे बड़ी गलती होगी !

    हमारे देश में हर रोज़ ना जाने कितनी मासूम लड़कियाँ किसी दरिंदा के हाथों अपनी इज्ज़त खोती हैं । ना जाने कितने ही ऐसे लोग हैं जो अपनी हवास या किसी और कार...और पढ़ें