आयुष्मान बोले ‘चंडीगढ़ करे आशिकी’ के इस सीन में हो सकता था अर्थ का अनर्थ; बताए 3 सबसे चैलेंजिंग सीन्स!

    आयुष्मान बोले ‘चंडीगढ़ करे आशिकी’ के इस सीन में हो सकता था अर्थ का अनर्थ; बताए 3 सबसे चैलेंजिंग सीन्स!

    ‘चंडीगढ़ करे आशिकी’ को जनता ने थिएटर्स में तो प्यार दिया ही लेकिन फिल्म के सीन्स को ट्रांस कम्युनिटी ने भी बहुत पसंद किया।

    आयुष्मान बोले ‘चंडीगढ़ करे आशिकी’ के इस सीन में हो सकता था अर्थ का अनर्थ; बताए 3 सबसे चैलेंजिंग सीन्स!

    आयुष्मान खुराना अपनी लेटेस्ट फिल्म ‘चंडीगढ़ करे आशिकी’ में लम्बे समय बाद थिएटर्स में जनता के सामने एक बार फिर से एक चटपटे और मज़ेदार किरदार में नज़र आए। अभिषेक कपूर के डायरेक्शन में बनी इस फिल्म में आयुष्मान ने एक जिम ट्रेनर मनु मुंजाल का किरदार निभाया जिसे अपने जिम में ज़ुम्बा सिखाने आई मानवी बरार उर्फ़ वाणी कपूर से प्यार हो जाता है। 

    रिलेशनशिप में घुस जाने के बाद आयुष्मान को पता चलता है कि मानवी तो एक ट्रांस-गर्ल है। इसके बाद फिल्म की कहानी में मनु उस सफ़र पर है जहां उसे समझ आता है कि इसमें कुछ भी अप्राकृतिक और गलत नहीं है। ‘चंडीगढ़ करे आशिकी’ को जनता ने थिएटर्स में तो प्यार दिया ही लेकिन फिल्म के सीन्स को ट्रांस कम्युनिटी ने भी बहुत पसंद किया। 

    अब देसीमार्टिनी को दी एक ख़ास इंटरव्यू में आयुष्मान ने बताया कि इस फिल्म के ये खूबसूरत सीन शूट करना इतना आसान नहीं था और उन्होंने अपनी लेटेस्ट फिल्म से 3 सबसे मुश्किल सीन चुने। 

    आयुष्मान ने बताया, “पहला वो, जब मनु को, मानवी के पास्ट के बारे में पता चलता है। और दूसरा वो इंटरवल सीन जब मनु मॉल में मानवी से सवाल-जवाब करता है और मानवी उसे थप्पड़ मार देती है।” 

    ये सीन मुश्किल क्यों था इसके बारे में समझाते हुए आयुष्मान ने कहा, “क्योंकि इन दो सीन्स में हम एक बहुत बारीक लकीर पर चल रहे थे, ये किसी भी तरफ जा सकता था (अर्थ का अनर्थ हो सकता था)। तो ये सीन डायरेक्ट करने और एक्ट करने, दोनों के लिए मुश्किल थे। और तीसरा वो है जब हॉस्पिटल के बाहर, मनु स्वीकार करता है, मानवी के लिए अपना प्यार उसकी पहचान। मेरे ख्याल से ये टीन सीन फिल्म का निचोड़ हैं और ये सबसे मुश्किल थे।” 

    हमारा भी यही मानना है कि ‘चंडीगढ़ करे आशिकी’ के ये दो सीन फिल्म की जान हैं और इनसे समाज में कुछ बदलाव तो ज़रूर आएगा।

    Updated: December 20, 2021 01:48 PM IST
    Tags
    About Author
    कंटेंट का बुखार हो या बॉक्स-ऑफिस की रफ़्तार... हमारे यहां फिल्मों की धार तसल्लीबख्श चेक की जाती है। शुक्रवार को मिलें, सिने-मा कसम.. देख लूंगा!