‘लगान’ के 20 साल: आमिर खान ने बताया आदित्य चोपड़ा और करण जौहर ने दी थी इस बड़े रिस्क से बचने की सलाह!

    ‘लगान’ के 20 साल: आमिर खान ने बताया आदित्य चोपड़ा और करण जौहर ने दी थी इस बड़े रिस्क से बचने की सलाह!

    ‘लगान’ के 20 साल: आमिर खान इन्होने दी थी बड़े रिस्क से बचने की सलाह!

    ‘लगान’ के 20 साल: आमिर खान ने बताया आदित्य चोपड़ा और करण जौहर ने दी थी इस बड़े रिस्क से बचने की सलाह!

    आमिर खान की ‘लगान’ बॉलीवुड की सबसे आइकॉनिक फिल्मों में से एक है। 20 साल पहले आज ही के दिन आई ये फिल्म, आमिर के प्रोडक्शन में बनी पहली फिल्म थी। इस खास मौके पर एक प्रेस कांफ्रेंस करते में आमिर ने बताया की ‘लगान’ बनाने में कितना रिस्क था। आमिर ने बताया कि ये फिल्म बहुत अलग थी। उन्होंने कहा कि वो शूट पर जाने से पहले अपने बहुत अच्छे दोस्तों आदित्य चोपड़ा और करण जौहर से मिले। दोनों ने इसी बात पर चिंता जताई कि आमिर अपनी पहली प्रोडक्शन में इतनी बड़ी फिल्म बना रहे हैं। ऊपर से उसे ‘सिंगल शिड्यूल’ और ‘सिंक साउंड’ के साथ शूट कर रहे हैं।

    आमिर ने बताया, “मै इससे कोई 5 साल पहले से सिंक साउंड और सिंगल शिड्यूल शूटिंग करना चाहता था। मैं 1995 से प्रोड्यूसर्स से सिंक साउंड करने को कह रहा था क्योंकि शूटिंग के समय मैं जो इमोशन क्रिएट करता था वो वेस्ट हो जाता था, और फिर मुझे डबिंग में वो इमोशन दोबारा क्रिएट करना पड़ता था। मैं बतौर एक्टर ये चीज़ें हमेशा ट्राई करना चाहता था लेकिन मेरे प्रोड्यूसर मेरी सुनते ही नहीं थे। वो इसे करने के लिए कॉंफिडेंट नहीं थे। इसलिए जब मैं प्रोड्यूसर बना, मैंने कहा मैं तो करूंगा!”

    आमिर ने बताया कि ‘लगान’ से उन्होंने ही ‘फर्स्ट असिस्टेंट डायरेक्टर’ का कॉन्सेप्ट शुरू किया और अपूर्व लखिया को एडी बनाया। इतना ही नहीं, इन सब चीज़ों के लिए उन्हें मना करने वाले आदित्य और करण आज 20 सालों से यही चीज़ें कर रहे हैं।

    बतौर एक्टर, ‘लगान’ ने क्या बदला इस बारे में आमिर ने कहा, “अचानक से, जितनी भी फ़िल्में मैं कर रहा था सब सिंगल शिड्यूल थीं, मैं कायदे से कैरेक्टर और प्रेप पर काम कर पाता था। पहले मैं हर फिल्म को डब करता था और स्टूडियो में अच्छे सीन को दोबारा क्रिएट करने में संघर्ष करता था”। आमिर ने बताया कि प्रोड्यूसर बनने से उनके एक्टिंग करियर को बहुत फायदा पहुंचा।



    Updated: June 15, 2021 11:30 PM IST
    About Author
    कंटेंट का बुखार हो या बॉक्स-ऑफिस की रफ़्तार... हमारे यहां फिल्मों की धार तसल्लीबख्श चेक की जाती है। शुक्रवार को मिलें, सिने-मा कसम.. देख लूंगा!