ये है अजय देवगन की फ़िल्म 'रेड' की असली कहानी !

    ये है अजय देवगन की फ़िल्म 'रेड' की असली कहानी !

    ये है अजय देवगन की फ़िल्म 'रेड' की असली कहानी !

    बॉलीवुड के ज़बरदस्त एक्टर अजय देवगन इस साल अपनी शुरुआत करने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। 2017 में अजय की दो फ़िल्में ‘बादशाहो’ और ‘गोलमाल अगेन’ बॉक्स-ऑफिस पर कामयाब रही थीं। 2018 में अजय एक बार फिर अपने ‘ऑफिसर’ स्टाइल में लौट रहे हैं और डायरेक्टर राजकुमार गुप्ता की फिल्म ‘रेड’ में वो एक इनकम टैक्स ऑफिसर के रोल में नज़र आ रहे हैं।

    यहां देखिए अजय देवगन और इलियाना डीक्रूज़ की फिल्म ‘रेड’ का ट्रेलर-

    इस फिल्म की कहानी 1980 के लखनऊ पर आधारित है और ट्रेलर देख कर आपको ये पता लग चुका होगा कि ये फिल्म सच्ची घटना पर आधारित है। लेकिन क्या आपको ये जानने की ये उत्सुकता है कि वो असल घटना क्या है जिस पर ये फिल्म बनाई गई है? दरअसल ये कहानी 80 के दशक पर आधारित है जब इंडियन रेवेन्यू सर्विसेज ने देश में जगह-जगह छापे मारे थे। ऐसा बताया जा रहा है कि ये फिल्म लखनऊ के इनकम टैक्स कमिश्नर शारदा प्रसाद पांडे की कहानी पर आधारित है, जिन्होंने इतिहास की सबसे लम्बी टैक्स रेड डाली थी जो कि 18 घंटे चली थी। ये जानकर आपको यकीन नहीं होगा कि इस रेड में 90 ऑफिसर थे और सिर्फ नोट गिनने के लिए ही 45 लोगों को रखा गया था।

    अजय देवगन की इन फिल्मों ने उन्हें बॉलीवुड का एक्शन स्टार बना दिया !

    ये है अजय देवगन की फ़िल्म 'रेड' की असली कहानी !

    यह रेड कांग्रेस के विधायक और बिज़नेसमैन इन्दर सिंह के के कानपुर वाले घर पर डाली गई थी। कहा जाता है कि इस रेड में 1.6 करोड़ रूपए बरामद हुए थे और सब कुछ शांति से निपट गया था। लेकिन इसका ये मतलब बिल्कुल भी नहीं कि इस रेड में रिस्क नहीं था। बल्कि फ़िल्म में असल जिंदगी की कुछ रेड्स के दौरान हुए खतरनाक हमलों को भी शामिल किया गया है। जैसे, पेपर मिल मालिक हरीश अरोड़ा और ज्वेलरी डीलर चितरंजन स्वरूप पर रेड के दौरान अफसरों पर भीड़ ने हमला कर दिया था।

    क्या अजय देवगन की ये आने वाली फिल्में उन्हें सुपरस्टार साबित कर पाएंगी?

    ‘रेड’ फिल्म के एक गाने ‘ब्लैक जमा है’ में आपको पूर्व भारतीय प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की एक झलक भी देखने को मिलेगी- 

    यहां देखिए अपनी फिल्म ‘रेड’ के बारे में अजय देवगन और इलियाना डीक्रूज़ ने क्या कहा- 

    Updated: April 23, 2018 09:00 AM IST
    About Author
    कंटेंट का बुखार हो या बॉक्स-ऑफिस की रफ़्तार... हमारे यहां फिल्मों की धार तसल्लीबख्श चेक की जाती है। शुक्रवार को मिलें, सिने-मा कसम.. देख लूंगा!