शमिता शेट्टी ने बिग बॉस 15 पर कही गई बातों को कहा ‘भयानक’, बोलीं- ‘भाई-बहनों के लिए इंडस्ट्री में नाम बनाना बहुत मुश्किल’

    शमिता शेट्टी ने बिग बॉस 15 पर कही गई बातों को कहा ‘भयानक’, बोलीं- ‘भाई-बहनों के लिए इंडस्ट्री में नाम बनाना बहुत मुश्किल’

    हाल ही में बिग बॉस 15 से निकलकर घर पहुंचीं शमिता ने, शो पर खुद को लेकर कही गई बातों और बड़ी बहन शिप शेट्टी से तुलनाओं पर खुलकर बात की है...

    शमिता शेट्टी ने बिग बॉस 15 पर कही गई बातों को कहा ‘भयानक’, बोलीं- ‘भाई-बहनों के लिए इंडस्ट्री में नाम बनाना बहुत मुश्किल’

    आम जनता में ये एक मान्यता बहुत गहरी फैली हुई है कि अगर आप एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री में किसी पॉपुलर व्यक्ति के करीबी हैं, तो आपके लिए अपना नाम बनाना अपने आप आसान हो जाता है। हालांकि, अगर बॉलीवुड में भाई-बहनों के रिकॉर्ड को देखें तो बाद में आने वालों के करियर का हाल देखते हुए ये साफ़ हो जाएगा कि ऐसा कुछ नहीं है। 

    बिग बॉस 15 फाइनलिस्ट शमिता शेट्टी नेअब एक ताज़ा इंटरव्यू में कहा कि ऐसा इसलिए है क्योंकि छोटे भाई बहनों को इंडस्ट्री में हमेशा अपने बड़ों की परछाई में ही रहना पड़ता है और उनमें लगातार तुलनाएं होती रहती हैं। 

    ई टाइम्स से एक ख़ास बातचीत में शमिता ने बताया, “बहुत सारे लोग ये नहीं समझते कि मेरे लिए इंडस्ट्री में कितनी मुश्किल रही है। वे बस इसपर यकीन करना चाहते हैं कि कि मेरे लिए सब बहुत आसान रहा क्योंकि इंडस्ट्री में मेरा कोई है।” 

    शमिता ने कहा उन्हें इस बात की बहुत ख़ुशी है कि उन्हें बिग बॉस पर अपने आप को सामने रखने का मौका मिला। घर में रहने के दौरान खुद पर हुए ज़ोरदार पर्सनल अटैक्स को लेकर भी शमिता ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि बहुत से लोग जो पहले से उन्हें लेकर एक सोच बनाकर आए थे, उनसे मिलकर वो अलग सोचने लगे। 

    शमिता ने कहा, “ऐसे भी मोमेंट आए जब मैं घर के अन्दर सच में रोने लगी। मेरे बारे में जो चीज़ें कही गयीं उन्हें पचा पाना और बर्दाश्त कर पाना बहुत मुश्किल था। वो सब बहुत भयानक था। किसी के लिए भी वो महसूस करना भयानक है। लेकिन खुशकिस्मती से मैंने खुद को संभाल कर रखा और हर बार पहले से मज़बूत वापसी की।” 

    शमिता ने कहा कि शो के दौरान ऐसा भी समय आया जब उन्हें लगने लगा कि क्या सच में खुद को इतना इमोशनल दर्द देने का कोई फायदा है? लेकिनी वो शुक्रगुजार हैं कि उन्होंने सफ़र जारी रखने का फैसला किया।

    Tags
    About Author
    कंटेंट का बुखार हो या बॉक्स-ऑफिस की रफ़्तार... हमारे यहां फिल्मों की धार तसल्लीबख्श चेक की जाती है। शुक्रवार को मिलें, सिने-मा कसम.. देख लूंगा!